नन्हे दोस्तों को समर्पित मेरा ब्लॉग

सरस झोंका : रावेंद्रकुमार रवि

>> Thursday, July 22, 2010

सरस झोंका

अंबर में डोल रहा
बादल आवारा!
वसुधा को छेड़ रहा
मारकर फुहारा!

मधुमुखियाँ कहती हैं
फूल हमें भाए!
भौंरों ने कलियों के
घूँघट सरकाए!

नेह-भरी अँखियों में
ख़ुद को जब देखा!
साजन ने हाथ पकड़
सजनी को रोका!

गालों पर सजने का
आज मिला मौका!
अलकों को छेड़ गया
एक सरस झोंका!


रावेंद्रकुमार रवि

6 टिप्पणियाँ:

Sunil Kumar July 22, 2010 at 9:40 PM  

achhi rachna badhai

Udan Tashtari July 23, 2010 at 8:13 AM  

बेहतरीन रचना.

संजय भास्कर July 24, 2010 at 6:35 PM  

बहुत सुंदर भाव युक्त कविता

हमारीवाणी.कॉम July 25, 2010 at 10:19 PM  

हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें

हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.


कोड के लिए यंहा क्लिक करे

वाणी गीत July 26, 2010 at 4:56 PM  

सरस झोंके की छेड़छाड़ अच्छी है ..!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) May 29, 2011 at 7:08 AM  

यह सरस झोंका बहुत बढ़िया रहा!

Related Posts with Thumbnails

"सप्तरंगी प्रेम" पर पढ़िए मेरे नवगीत -

आपकी पसंद

  © Blogger templates Sunset by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP