नन्हे दोस्तों को समर्पित मेरा ब्लॉग

मत दिखाओ : रावेंद्रकुमार रवि

>> Monday, June 6, 2011


मत दिखाओ

मैं नहीं हूँ 
प्यास का मारा 
हुआ मृग, 

जो भटकता 
फिर रहा 
मरुभूमि में हो! 

मत दिखाओ 
तुम मुझे 
मारीचिकाएँ प्यार की! 

रावेंद्रकुमार रवि

16 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) June 6, 2011 at 7:35 PM  

बहुत उम्दा!

सुमन'मीत' June 6, 2011 at 10:04 PM  

बहुत खूब....

रावेंद्रकुमार रवि June 6, 2011 at 10:06 PM  

Facebook पर Raja Lambert का कथन --
Excellent poem....mirage of love.
The flower of cactus is very beautiful and rare...
good choice of picture to incorporate with your poem.
Congratulations Ravindra Ji for such a nice short but sweet poem.

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 6, 2011 at 11:03 PM  

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

डॉ॰ मोनिका शर्मा June 7, 2011 at 5:36 AM  

उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.... ....संवेदनशील पंक्तियाँ

Coral June 7, 2011 at 7:38 AM  

बहुत सुन्दर

Udan Tashtari June 7, 2011 at 8:18 AM  

एक सुन्दर रचना.

Maheshwari kaneri June 7, 2011 at 11:43 AM  

सुन्दर अभिव्यक्ति्…..….

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 7, 2011 at 4:54 PM  

चंद पंक्तियों में खूबसूरत अभिव्यक्ति

रंजना June 7, 2011 at 4:57 PM  

वाह...

बहुत सुन्दर...

Kailash C Sharma June 7, 2011 at 8:00 PM  

बहुत खूब!

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" June 9, 2011 at 9:32 AM  

भावनाओं से ओत-प्रोत रचना ... और कहने का अंदाज तो आपका अछूता है ही . बधाई .

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार June 11, 2011 at 8:01 AM  

प्रिय बंधुवर रावेंद्रकुमार रवि जी
सस्नेहाभिवादन !

बहुत सुंदर !
इतनी लघु कविता … और सब कुछ अभिव्यक्त है …
रावेंद्र जी कमाल !


हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

- राजेन्द्र स्वर्णकार

Sunil Kumar June 11, 2011 at 9:40 PM  

कम शब्दों में सारगर्भित रचना , बधाई

Amrita Tanmay June 13, 2011 at 7:02 AM  

Achchha likha hai...

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 13, 2011 at 3:52 PM  

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

साप्ताहिक काव्य मंच- ५० ..चर्चामंच

Related Posts with Thumbnails

"सप्तरंगी प्रेम" पर पढ़िए मेरे नवगीत -

आपकी पसंद

  © Blogger templates Sunset by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP